Health

Vitamin की कमी से होने वाले रोग

जब से कोरोना आया है पूरी दुनिया के लोगों को अपने सेहत की बहुत फिक्र होने लगी है।हर कोई अपने खाने मे अच्छे आहार लेना चाहता है। सब जानते है की कोरोना से लड़ने के लिए बेहतर immunity (रोग प्रतिरोधकता) की क्षमता चाहिए। हमारे शरीर की इम्यूनिटी को बड़ाने मे Vitamin C बहुत जरूरी है ऐसे ही Vitamin B6,Vitamin E, इनके अलावा Zinc, Calcium etc. हमारे जीवन मे हर vitamin का महत्व है तो आज इस आर्टिकल के माध्यम से आप जानेंगे कि विटामिन क्या हैं, विटामिन की कमी से कौन कौन से रोग होते हैं तथा इसके स्त्रोत क्या हैं।

vitamins-disease-hindi
Vitamin

Table of Contents

Vitamin क्या है

विटामिन की खोज Casimir Funk ने 1911 मे की थी। विटामिन भोजन में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले कार्बनिक यौगिक हैं, विटामिन को शरीर मे खुद उत्पन्न नहीं किया जाता , ये हमे हमारे खाने से प्राप्त होती है

हमारे शरीर को 13 vitamins की अवशयकता होती है । जो इस प्रकार है, Vitamin A, Vitamin C, Vitamin D, Vitamin E, Vitamin K, और Vitamin B complex है। Vitamin B complex इस प्रकार है – Vitamin B1,Vitamin B2, Vitamin B3, Vitamin B5, Vitamin B6, Vitamin B9, Vitamin B12 , इसमे आपने देखा होगा की Vitamin B series मे नहीं है।

मानव शरीर में अलग अलग विटामिन का अलग अलग कार्य होता है, इस वजह से मानव शरीर में किसी विशेष विटामिन की कमी से विशिष्ट रोग हो सकते हैं।

Vitamin A, के स्रोत और इसकी कमी से होने वाले रोग

Vitamin A, को scientific भाषा मे retinol कहा जाता है , retinol का सम्बद्ध आँख से होता है। तो Vitamin A हमारी आँखों के लिए बहुत लाभदायक है।

Vitamin A, के सबसे अच्छे स्रोत

  • ऑर्गन मीट (लिवर)
  • गाजर
  • अंडे
  • पालक
  • अखरोट
  • मछली या मछली का तेल
  • मक्खन, दूध और पनीर

Vitamin A की कमी से होने वाले रोग

  • colour blindness and night blindness ( रतौंधी )
  • संक्रमण का उच्च जोखिम

Vitamin A के फायदे

यह त्वचा, हड्डियों और शरीर की अन्य कोशिकाओं को मजबूत रखने में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भोजन के माध्यम से भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट युक्त Vitamin A का सेवन करने से उम्र अधिक नहीं दिखती है। Vitamin A का सेवन करने से आँखों की कोई बीमारी नहीं होती। यह आँखों के लिए बड़ा अच्छा माना जाता है।

Vitamin C, के स्रोत और इसकी कमी से होने वाले रोग

Vitamin C का रासायनिक नाम एस्कॉर्बिक एसिड (ascorbic acid) है। शरीर को स्वस्थ बनाये रखने के लिए विटामिन-सी बहुत जरुरी होता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है। विटामिन सी की सर्वाधिक उच्च मात्रा खट्टे फलों में पाई जाती है। Vitamin C को उबालने या भोजन पकाने से या विकृत हो सकता है

एक पुरुष को दिन मे 90 mg और एक औरत को 75 mg Vitamin C सेवन करना चाहिए। ध्यान देने वाली बात है की एक गर्वती महिला, धूम्रपान और जिसको बर्न इंजूरी हो उसको विटामिन C की ज्यादा अवस्यकता होती है। इस कोरोना काल मे जब लोगों को इम्यूनिटी बढ़ाने की ज्यादा जरूरत है उसमे Vitamin C का अहम किरदार है।

Vitamin C, के सबसे अच्छे स्रोत

  • टमाटर
  • आंवला – एक आंवले में लगभग 4 नींबू और 30 संतरों के बराबर विटामिन-सी होता है और इसके नियमित सेवन से पाचन तंत्र बेहतर बनता है।
  • शिमला मिर्च (capsicum)
  • खट्टे फल -संतरा, जामुन, मौसमी
  • नींबू
  • पपीता
  • कीवी फल
  • गोभी
  • लीची
  • strawberry
  • अमरूद

Vitamin C, कमी से होने वाले रोग

  • स्कर्वी (scurvy)
  • घावों का देर से सही होना
  • मसूड़े की सूजन (Gingivitis) और दंत समस्याएं
  • skin problem
  • संक्रमण (Infections)
  • अखरोट
  • cancer
  • थकान रहना और मोटापा बढ़ना
  • weak immunity
  • asthma
  • आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (anemia) या मेगालोब्लास्टिक अनीमिया (megaloblastic anemia)
  • नकसीर

Vitamin C के फायदे

विटामिन C कोलेजन (collagen) बनाने में महत्वपूर्ण योगदान देता है। विटामिन C रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर रोगों से लड़ने में हमारी मदद करता है जिसके कारण चोट जल्दी ठीक होती है। HIV रोगियों में इन्फेक्शन से लड़ने के लिए विटामिन C दिया जाता है। अध्ययनों से पता चला है कि रोज़ाना विटामिन C के सेवन से महिलाओ मे मोतियाबिंद होने का जोखिम काफी हद तक कम हो जाता है। कोरोना के समय मे जब लोगों का आक्सिजन लेवल काम होता है तो डॉक्टर उनको विटामिन C देते है क्यूंकी इसकी वजह से फेफड़ों की क्षमता बदती है।

Vitamin E, के स्रोत और इसकी कमी से होने वाले रोग

Vitamin E,  मानव शरीर में एंटीऑक्सिडेंट की भूमिका अदा करता है, शरीर में फ्री रेडिकल की क्रिया को रोकने में महत्वपूर्ण है, जो विशिष्ट वसा को क्षति पहुंचाते हैं। यह स्वस्थ त्वचा के रखरखाव के साथ उम्र बढ़ने की गति को धीमा कर सकता है।

Vitamin E, के सबसे अच्छे स्रोत

फल और सब्जियों के तेल मे Vitamin E प्रचुर मात्रा मे पाया जाता है।

  • कीवी फल
  • पत्तेदार हरी सब्जियां
  • अंडे
  • दूध
  • अखरोट
  • बादाम
  • एवोकैडो
  • पत्तेदार हरी सब्जियां
  • बिना गर्म किए हुए वनस्पति तेल

Vitamin K, के स्रोत और इसकी कमी से होने वाले रोग

विटामिन K वसा में घुलनशील एक आवश्ययक पोषक तत्व है, जो मानव शरीर में रक्त का थक्का ज़माने में मदद करता है। यह रासायनिक तौर पर दो रूपों में पाया जाता है।

Vitamin K, की कमी से होने वाले रोग

Vitamin K, की वजह से चोट की bleeding रुकती है मतलब

  • ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis)
  • रोजेशिया
  • हृदय रोग (heart disease)
  • Biliary cirrhosis
  • हड्डी के नुकसान (bone loss)
  • हड्डियों में फ्रैक्चर जैसे- स्पाइनल फ्रैक्चर spinal fractures, Hip fractures और non-spinal fractures
  • लीवर कैंसर, फेफड़ों का कैंसर, स्तन कैंसर इत्यादि।

Vitamin K, के सबसे अच्छे स्रोत

 पत्तेदार हरी सब्जियों में विटामिन K1 की मात्रा सर्वाधिक होती है

  • पालक
  • ब्रोकोली
  • गोभी
  • शलजम (turnip green)
  • शतावरी (asparagus)
  • ब्रसेल्स स्प्राउट्स
  • वनस्पति तेल
  • डेयरी उत्पाद
  • अनाज
  • सोयाबीन

Vitamin D, के स्रोत और इसकी कमी से होने वाले रोग

Vitamin D, के सबसे अच्छे स्रोत

  • सूर्य प्रकाश
  • झींगा
  • संतरे का रस
  • दूध
  • मशरूम
  • अनाज
  • अंडे
  • कॉड लिवर तेल
  • दही

Vitamin D, की कमी से होने वाले रोग

  • रिकेट्स (rickets)
  • हड्डियों की कमजोरी या ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis)
  • दिल के दौरे
  • अवसाद (depression)
  • बच्चों में अस्थमा
  • विटामिन डी की कमी कुछ कैंसर जैसे कि स्तन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और पेट के कैंसर के विकास में भी योगदान कर सकती है।

Vitamin D, के फायदे

यह मानव शरीर के लिए अनेक प्रकार से लाभदायक होता है। विटामिन डी की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, जिसके कारण रिकेट्स तथा अन्य गंभीर समस्याएँ उत्पन्न होती है। मानव शरीर विटामिन D को अधिक समय तक स्टोर करके नहीं रख पाता है। अतः प्रत्येक मनुष्य को प्रतिदिन एक निश्चित मात्रा में विटामिन D के सेवन पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है।

Vitamin B , के स्रोत और इसकी कमी से होने वाले रोग

Vitamin B, के सबसे अच्छे स्रोत

विटामिन बी विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों जैसे मांस, साबुत अनाज और फलों से प्राप्त होता है। रासायनिक रूप से विटामिन बी (Vitamin B) मानव शरीर में अनेक रूपों में पाया जाता है, जो कि निम्न है:

Vitamin B1,के सबसे अच्छे स्रोत

  • खमीर (yeast)
  • सूअर का मांस (pork)
  • अनाज के दाने
  • सूरजमुखी के बीज
  • ब्राउन राइस
  • साबुत अनाज
  • शतावरी
  • आलू
  • संतरे
  • अंडे,

Vitamin B1,कमी से होने वाले रोग

Vitamin B1 की कमी से बेरीबेरी (beriberi) और वेर्निक-कोर्साकोफ सिंड्रोम (Wernicke-Korsakoff syndrome) आदि रोग हो सकते हैं।

Vitamin B2, के सबसे अच्छे स्रोत

  • शतावरी
  • केले
  • लंबी भिंडी
  • पनीर
  • दूध
  • दही
  • मांस
  • अंडे
  • मछली

Vitamin B2,कमी से होने वाले रोग

  • Retarted growth
  • Bad skin
  • ग्लोसाइटिस
  • एंगुलर स्टोमाटाइटिस (angular stomatitis)

Vitamin B3, के सबसे अच्छे स्रोत

  • टमाटर
  • पशुमांस
  • पत्तेदार सब्जिया
  • ब्रोकोली
  • गाजर
  • शकरकंद
  • शतावरी
  • नट्स
  • साबुत अनाज
  • मशरूम,

Vitamin B3, की वजह से होने वाले रोग

  • पेलग्रा (pellagra)
  • डायरिया
  • डर्मेटाइटिस
  • मानसिक अशांति

Vitamin B5, के सबसे अच्छे स्रोत

  • मीट
  • साबुत अनाज
  • ब्रोकोली
  • एवोकाडो
  • रॉयल जेली
  • मछली अंडाशय,

Vitamin B5, की वजह से होने वाले रोग

पिंस और नीडल्स” (pins and needles) हो सकती हैं।

Vitamin B6, के सबसे अच्छे स्रोत

Vitamin B6 immunity को बड़ाने मे बहुत अच्छा सहायक है ।

  • मीट
  • केले
  • पिस्ता
  • साबुत अनाज
  • सब्जियाँ- आलू
  • नट्स,

Vitamin B6, की कमी की वजह से होने वाले रोग

  • एनीमिया -Anemia
  • मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के अलावा तंत्रिका तंत्र के कुछ हिस्सों को नुकसान

Vitamin B9, के सबसे सबसे अच्छे स्रोत

  • पत्तेदार सब्जियां
  • बियर और शराब
  • यकृत या अंगों का मांस
  • खमीर
  • सूरजमुखी के बीज

Vitamin B9,की कमी से होने वाले रोग

गर्भावस्था के दौरान विटामिन बी 9 की कमी जन्म दोष (birth defects) का कारण बनती है।

Vitamin B12, के सबसे सबसे अच्छे स्रोत

  • मछली
  • मांस
  • मुर्गी
  • अंडे
  • दूध और डेयरी उत्पाद
  • सोया उत्पाद,

Vitamin B12, की कमी से होने वाले रोग

Vitamin B12, की वजह से मुख्य रोग Aneamia होता है जिसमे red blood cell or hemoglobin काम हो जाता है जिसकी वजह से थकान महसूस होती है और सांस लेने मे दिक्कत आती है।

छोटी आंत को प्रभावित करने वाले रोग जैसे- क्रोहन रोग, सीलिएक रोग, परजीवी संक्रमण

आशा करता हूँ कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubt है या आप चाहते है की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीचे comments लिख सकते हैं। आपका दिन मंगलमय हो।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button