Festivals

वसंत पंचमी 2021 कब और कैसे मनाई जाती है ? पूजा विधि

वसंत पंचमी का त्योहार पुरे देश में मानते है , इस दिन कैसे पूजा करते है. इस आर्टिकल में हम जानेंगे की क्यों और कब मनाई जाती है वसंत पंचमी। तथा इस को भारत किस किस नाम से जाना जाता है और कहा किस तरीके से मानते है और यह सब के लिया क्या क्या मायने रखती है।

vasant panchami 2021 -वसंत पंचमी कब मनाई जाती है ? -हिंदी में जानकारी

वसंत पंचमी लगभग सभी भारतीय मानते है खास कर पूर्वी और उत्तर भारत में, यदि आप को नही पता है की वसंत पंचमी क्यों, कब, कैसे मानते है और इसकी पूजा विधि क्या है तो आप सही ब्लॉग पर है , हम आप को सब कुछ बताने वाले है, चलो शुरु करते है –

वसंत पंचमी क्या है ?

यह हिन्दू त्योहार है, जो भारत का साथ साथ पाकिस्तान, नेपाल, भूटान और बांग्लादेश और जहां भी भारतीय रहते है वहीं मनाईं जाती है, यह वसंत ऋतु के आने का प्रतीक है , इसे सरस्वती माता का जन्म दिवस भी माना जाता है, वसंत पंचमी को सरस्वती पूजा भी बोलते है, यह सरस्वती माता से जुड़ा है, सरस्वती माता विद्या की देवी है, जिसकी पूजा से विद्या में सफलता मिलती है, बहुत से लोग इसको “बसंत पंचमी” भी बोलते है

वसंत पंचमी कब और क्यों 2021

वसंत ऋतु के मौसम में सरसों और गेहूं लह्लाने लगती है, सभी पेड़ पौधे और फूल खिल जाते है और तितलिया मडराने लगती है तब वसंत पंचमी आती है इसको “ऋषि पंचमी” भी कहते है।

यह क्यों मनाई जाती है ?

भारत में अलग अलग समाज के लिया वसंत पंचमी का अलग महत्व है, देश के कला प्रेमी और विद्वान लोग इस दिन सरस्वती माता की पूजा करते है, कवि, वादक, नाटककार, लेखक, गायक, नृत्यकार अपने उपकरणों की पूजा के साथ मां सरस्वती देवी की वंदना भी करते हैं। कला और ज्ञान के क्षेत्र में आगे बढने की मनोकामना की जाती है।

स्कूल और कॉलेज में सरस्वती को विद्या की देवी माना जाता है और वसंत में पढनें का सर्वश्रेस्ट समय माना जाता है और विधार्थी सरस्वती देवी की पूजा कर अपने आने वाली परीक्षाओ में अच्छे परिणाम की कामना करते है।

पूर्वोतर भारत में सरस्वती देवी की पूजा कर, अगले दिन मूर्ति विसर्जन किया जाता है।

मुख्यतः वसंत पंचमी का त्योहार सरस्वती देवी को अर्पित किया गया है।

वसंत पंचमी कब मनाई जाती है – 2021 Date

अकसर लोग ये पूछते है की basant panchami kab hai , तो यहे भारतीय महीने माघ के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है, भारतीय त्योहारों को देसी कैलेन्डर के हिसाब से मनाया जाता है, अंग्रजी कैलेन्डर का हिसाब से वसंत पंचमी को साल 2021 में मंगलवार, 16 February or 2022 में शनिवार, 5 February और 2023 में वीरवार, 26 January को मनाई जायेगी।

पूजा विधि – puja vidhi in Hindi

  • सुबह उठ कर सबसे पहले बेशन युक्त तेल का उबटन कर के स्नान करना चहिये,
  • इसके बाद पीले वस्त्र पहन कर माँ सरस्वती की पूजा की तैयारीयों को करना चहिये।
  • हल्दी वाले पीले चावल जरुर बनाने चहिये और पीले वस्त्र पहनने, हल्दी से सरस्वती की पूजा और माथे पर तिलक लगाने का विधान है।
  • चावल से अष्टदल कमल बनाये।
  • गेहू सरसों और जो को कलश में डाल कर जल से भर कर रखे।
  • सबसे पहले गणेश जी की आरती करे।
  • फिर विष्णु सूर्य और महादेव जी की पूजा करने के बाद माँ सरस्वती की पूजा करने चहिये।
  • पूर्वोतर के राज्यों में मूर्ति स्थापना के दिन पूजा कर के अगले दिन माँ सरस्वती की की मूर्ति को नदी में विसर्जन किया जाता है।
  • स्कूल / कॉलेज में माँ सरस्वती की आराधना विद्या प्राप्ति के लिए की जाती है।

आप को हमारा ब्लॉग कैसे लगा हमें जरुर comment कर के बताये

Happy Basant Panchami

Leave a Reply

Back to top button