Health

Remdesivir इंजेक्शन क्या है ? क्यों मची है देश में मारामारी ? किस काम आती है ये दवा, जानें सबकुछ

करोना काल में देश में रेमडेसिविर (Remdesivir) को लेकर मारामारी मचीहुई है. लोग मेडिकल स्टोर पर लाइनों में लगे है फिर भी यह दवा किसी भी कीमत पर लोगो को नही मिल रही है. corona काल की दूसरी लहर में इसकी demand कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है।

क्या है रेमडेसिविर दवा ?

देश में corona के दूसरी लहर से मारामारी मची है आजकल Remdesivir दवा को लेकर बहुत से न्यूज़ आ रही है. जिन लोगो को इसकी जरूरत है उसके अलावा भी लोग इसे खरीद रहे है. जिस वजह से इसकी demand बढ़ गई है. इस वजह से कोरोना के मरीज के इलाज में भी दिकत आ रही है. देश में इस दवा के चोरी होने, कालाबजारी, किल्लत की खबरे आई है।

क्या है Remdesivir

यह Remdesivir क्या है ? किस काम आती है ? इसकी क्या जरुर है ? इसकी क्या कीमत है और भारत में इसे कौन कौन सी company बना रही है। इस आर्टिकल में इन सभी सवालों पर बात की जाएगी।

आइए जानते है Remdesivir (रेमडेसिविर) दवा के बारे में सब कुछ –

क्या है Remdesivir (रेमडेसिविर)?

यह एक एंटी वायरल दवा है. यह एक न्यूक्लियोसाइड राइबोन्यूक्लिक एसिड (RNA) पोलीमरेज़ इनहिबिटर इंजेक्शन है। इसको अमरीका की company फार्मास्युटिकल गिलियड साइंसेज द्वारा बनाया गया था. इसको हेपेटाइटिस सी और साँस संबंधी वायरस के इलाज के लिए बनाया गया था. बाद में इसे इबोला वायरस के इलाज में इस्तेमाल किया जाने लगा.

लेकिन अब कोरोना में इसे जीवन रक्षक के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है. corona के सुरुवाती इलाज में remdesivir भी शामिल है. इसलिए आजकल ये खूब चर्चा में है. और इसके डिमांड बढ़ गई है. लोग इसको किसी भी कीमत पर खरीदने को तयार है.

WHO यानि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे COVID-19 के इलाज में कारगर नहीं माना है, परन्तु दवा कंपनी इसको कारागार मान रही है.

भारत में कौन कौन से कंपनी इसे बना रही है?

भारत में रेमडेसिविर दवा को इंजेक्शन के रूप में बहुत सी कपनियां बना रही हैं। इनमें डाक्टर रेड्डी लैब (Dr. Reddy’s Laboratories), जायडस कैडिला (Zydus Cadila), सिप्ला (Cipla) और हेटेरो लैब (Hetero Labs) शामिल हैं। Genetek Lifesciences , Jubilant Lifesciences, sunfarma  और Mylan कंपनी भी दवा बनाने की और अग्रसर है.

क्यों बढ़ रही है देश में इसकी मांग

देश में corona के दूसरी लहर आने से , कोरोना के मरीज़ बढने से रेमडेसिविर के मांग भी बढ़ गई है. पिछले साल इसकी इतनी ज्यादा मांग नही थी जो अब के बार हो रही है. इसी के साथ रेमडेसिविर के कालाबजारी(black marketing), दावा की किल्लत (Shortage), दवा की चोरी के खबरे आ रही है.

इसी से साथ देश में केंद्र सरकार और राज्य सरकारों के बीच राजनितिक भी शुरु हो गई है.

रेमडेसिविर की क्या कीमत है ?

सभी कंपनी के दाम अलग अलग है भारत में 100 mg उपलब्द है. सबसे सस्ती रेमडेसिविर जायडस कैडिला की है जिसकी कीमत लगभग 2800 रुपए है. सबसे महँगी हेटेरो लैब (Hetero Labs) की है जो 5000 से 6000 के बीच है.

सरकार जल्द ही इसका दाम फिक्स करेगी और दाम में कटौती करेगी जिस से इसकी कीमत दो हजार रपए तक कम हो जाएगी। कटौती के बाद रेमडिसिविर का इजेंक्शन 1225 रपए में उपलब्ध होने की उम्मीद की जा सकती है।

Note : दवा डॉक्टर के सलाह पर ही लें।

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Back to top button