SEO

On-Page SEO क्या है, क्यों जरूरी, कैसे करें? Best Practice 2021

कोई भी वेबसाईट तब तक कामयाब नहीं हो सकती जब तक की वह organic traffic से यूजर न ला सके, इसका मतलब की Google के search रिजल्ट से traffic आना। तो इसके लिए वेबसाईट का SEO बहुत जरूरी है, अगर आपको SEO के बारे में नहीं पता है तो हमारा आर्टिकल SEO क्या है, क्यों जरूरी है, पढ़ें। इस आर्टिकल में हम ऑन पेज SEO के बारे में बात करेंगे वो भी हिन्दी में।

On-Page SEO क्या है?

On-Page SEO किसी भी वेबसाईट का structure यानि ढांचा है, जो कोई भी सर्च इंजन समझ सकता है। तो यहां एक साधारण सी बात है की अगर website को सर्च इंजन समझ पाएगा तभी तो उसको search result में दिखा पाएगा। अब हम बात करेंगे की एक समझने लायक वेबसाईट का ढांचा कैसे बनाया जाए।

वेबसाईट की Theme और ऑन-पेज SEO

सबसे बड़ा रोल होता है वो है एक वेबसाईट की थीम का क्योंकि पूरी वेबसाईट के हर पेज का common structure एक theme ही तैयार करती है। इसलिए वेबसाईट की theme को चुनने से पहले ये जान ले की जो theme आप वेबसाईट पर इस्तेमाल करने जा रहे है, क्या वो SEO friendly है।

on-page-seo-hindi
On-Page SEO क्या है?

तो कैसे चेक करेंगे की कोई भी Theme जो आप वेबसाईट पर इस्तेमाल करने जा रहे हैं, SEO friendly है, तो इसको चेक करने के कुछ नियम हैं। अगर आपके लिए नीचे दिए गए शब्द नए है तो भी आप चिंता न करे, हम आपको इनके बारे में पूरी जानकारी देंगे।

  • Theme HTML5 को सपोर्ट करती है
  • Schema Markup Support
  • Speed of the theme, size of the theme.

HTML5 Theme

HTML5 Theme का मतलब है की theme बता रही है उसमे कहां क्या लिखा गया है? यह सर्च इंजन को समझने में मदद करता है की आपका आर्टिकल किस बारे में बात कर रहा है। on-Page SEO

इसको समझने के लिए हम एक उदाहरण लेते हैं – जैसे की आप किसी नए बने घर में गए हैं जो बनकर अभी तैयार नहीं हुआ और आपको बोल दिया जाए की बताओ ये बच्चों का room है या main badroom, इसी तरह से आप नहीं बता सकते की क्या क्या बना हुआ है। और एक आप वो घर पूरी तरह से तैयार होने के बाद गए तो आप बहुत हद तक बता सकते हैं की कौनसा कमरा क्या है। तो जो HTML थीम है वो पूरी तैयार theme नहीं है, HTML5 theme पूरी तरह से तैयार theme है। तो आप समझ गए होंगे की HTML5 की on-Page SEO में कितनी महत्वपूर्ण भूमिका है।

अब समझते हैं की best HTML5 पेज structure कैसे चेक करें। इसके लिए जो थीम आपने अपने Blogger या WordPress की वेबसाईट पर लगानी है उसके demo article पर जाए और ctrl+U दबाकर पेज का source चेक कर सकते हैं। यहां अब ctrl+F press करके <header, <main, <article, <aside, <footer खोजें। अगर ये सब मिल जाए तो यह थीम HTML5 support करती है जिसका मतलब है की ऑन पेज SEO बहुत अच्छा है।

Schema Markup

इसको semantic भी कहते हैं जो search engine को आपके आर्टिकल को समझने में मदद करता है। आप जो Theme इस्तेमाल करना चाहते हैं तो आपकी वेबसाईट का schema markup सपोर्ट कर रही है या नहीं। Schema markup को चेक करने के लिए आप Google Schema Tool का इस्तेमाल कर सकते है Structured Data Testing Tool.

WordPress की Theme अगर schema markup Support नहीं भी करती तो कोई बात नहीं क्योंकि इसमे आप SEO plugin जैसे Yoast SEO, Rank Math SEO जैसे plugin को जोड़ कर Schema को enable कर सकते हैं। लेकिन वहीं अगर आप Blogger पर अपना ब्लॉग बनाए हुए हैं तो schema का support करना बहुत जरूरी है क्योंकि यहां कोई plugin नहीं लगाया जा सकता।

अगर आपको Blogger के लिए कोई ऐसी थीम नहीं मिल रही तो आप oyedad Blogger थीम को इस्तेमाल कर सकते हैं।

Speed of Theme

वेबसाईट की स्पीड में सबसे महत्वपूर्ण रोल hosting का तो होता ही है इसमें महत्वपूर्ण रोल Theme का भी है।अगर कोई theme फुली स्पीड optimized है तो पेज में unwanted js या CSS नहीं होगी।

Google की नई core update जो की core vital web से भी जानी जाती है जल्द ही Page Speed के हिसाब से Google Search Result पर प्रभाव डालेगी। ध्यान रहे यह update May 2021 से सभी Google Results पर लागू होने जा रही है।

यहां से आप समझ सकते हैं की website speed का अब क्या role होने जा रहा है। आप अपनी वेबसाईट की स्पीड PageSpeed Insights पर चेक कर सकते हैं। और अगर स्पीड कम है तो Google द्वारा दिए गए सुझावों पर नजर डाल सकते हैं।

SEO Friendly Content और on-Page SEO

सबसे पहली बात सभी कंटेन्ट जो आप लिखें unique होने चाहिए, यानि की वो कहीं से कॉपी पेस्ट न होकर आपकी सोच से निकलने चाहिए। Articles का on-Page SEO करने के लिए आप Yoast SEO, Rank Math SEO या All in One के इस्तेमाल से SEO Friendly कंटेन्ट लिख सकते हैं।

लेकिन अगर आप Blogger पर हैं तो SEO friendly आर्टिकल लिखने के लिए इन बातों का ध्यान रख सकते हैं ।

  • सबसे पहले जिस topic पर लिखना है, उसके लिए सर्च किया जाने वाला keyword ढूढ़ें।
  • keyword को Title टैग में डालें
  • subheading में भी keyword का इस्तेमाल करें
  • keyword को आर्टिकल में अच्छे से मिलाएं मतलब की ऐसा न हो की article के एक भाग में तो keyword बहुत बार इस्तेमाल हो जाए और पूरे आर्टिकल में वो कीवर्ड इस्तेमाल ही न किया गया हो। जैसे की इस आर्टिकल on-Page SEO में कीवर्ड को मिलाया गया है।
  • अगर आप आर्टिकल English में लिख रहे है तो grammer का विशेष ध्यान रखें क्योंकि Google, English में पंडित है।
  • description को अच्छे से keyword के अनुसार और आर्टिकल में क्या जानकारी दी गई है, उसके अनुसार लिखें ।
  • slug या permalink को कीवर्ड के अनुसार बनाएं, और ध्यान रहे ही slug हमेशा english के छोटे अक्षरों में ही होना चाहिए।

तो ये था हमारा आर्टिकल On-Page SEO के बारे में, अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो या कुछ पूछना हो तो नीचे comment section में पूछ सकते हो। धन्यवाद

Ashok Kumar

अशोक कुमार 2015 से Search Engine Optimization फील्ड में काम कर रहे हैं। और तब से कई सफल परियोजनाओं पर काम किया । वह seoneurons.com को अपने followers के साथ सर्वश्रेष्ठ SEO techniques वास्तविक जीवन के अनुभव को साझा करते हैं । आप WordPress, Blogger या किसी अन्य ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के लिए एडवांस लेवल एसईओ भी सीख सकते हैं।

Leave a Reply

Back to top button