Technology

कौन करेगा भारत में 5G टेक्नॉलजी लॉन्च जिओ या एयरटेल

हाल ही में आयोजित हुए इंडियन मोबाइल में रिलायंस इन्फोकॉम के चेयरमेन मुकेश अंबानी ने कहा कि 5G तकनीक जल्द ही भारत में लॉन्च हो जाएगी परंतु भारती एयरटेल के चेयरमेन सुनील भारती मित्तल के अनुसार इंडिया में 5G roll out में अभी 2-3 साल का समय लगेगा

5G Bandwidth
5G Bandwidth

2017 से हर साल इंडियन मोबाइल काँग्रेस आयोजित किया जाता है। इस बार 2020 के आयोजन मे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हिस्सा लिया था जिसमे उन्होंने कहा था कि हमे भारत मे 5g Roll Out के लिए साथ मिलकर काम करना होगा।

इंडियन मोबाईल काँग्रेस को संयुक्त रूप से दूरसंचार विभाग (Department of Telecommunication) तथा सेल्यूलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया(cellular Operators Association(COAT)) के द्वारा आयोजित किया जाता है। इस बार इस आयोजन की थीम “inclusive innovation – smart, secure, sustainable” थी।

अंबानी के अनुसार अगले 6 से 7 महीनों मे 5g टेक्नॉलजी भारत में आ जाएगी जबकि सुनील भारती मित्तल के अनुसार भारत में 5g टेक्नॉलजी आने में 2 से 3 साल लग सकते है।

अम्बानी ने मोबाईल काँग्रेस मे कहा कि भारत को पॉलिसी डेवलपमेंट की आवश्यकता है जिससे हम भारत मे जल्द से जल्द 5g सर्विसेज़ को Roll Out कर सकें साथ ही 5g में प्रयुक्त होने वाली सभी हार्डवेयर एवं सॉफ्टवेयर टेक्नॉलजी हमने भारत में ही बनाए हैं तथा हम इसे जल्द से जल्द लॉन्च करना चाहते है जो आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करेगा इसके विपरीत सुनील भारती मित्तल का कहना है कि 5G को लॉन्च करने की लिए इन्फ्रस्ट्रक्चर अल्पविकसित है साथ ही स्पेक्ट्रम कॉस्ट भी बहुत ज्यादा है।

इसकी वजह यह भी है कि वोडाफ़ोन तथा एयरटेल पहले से ही (Adjusted Gross Revenue (AGR)) के कारण कर्ज में डूबे हुए हैं जिसमें एयरटेल उभरने की कोशिश कर रहा है परंतु वोडाफ़ोन बहुत नीचे गिरता जा रहा है इसमें देखना होगा कि क्या वोडाफ़ोन उभर पाएगा। 3G की स्पीड 4G की तुलना में कम है परंतु 3G का कवरेज 4G से ज्यादा है इसी प्रकार 5G की स्पीड ज्यादा होगी परंतु इसका कवरेज एरिया 4G की तुलना में कम होगा। इसके लिए हर 250 मीटर की रेंज में 5G के टावर लगाने होंगे। इसलिए भारती का कहना है कि अभी हमारे पास इन्फ्रस्ट्रक्चर तैयार नहीं है।

डूरसंचार विभाग(Ministry of Telecommunication) के अनुसार जनवरी-मार्च के बीच 4G स्पेक्ट्रम की सेल की जाएगी। लेकिन 5G स्पेक्ट्रम की सेल कब होगी इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं दी है। इसके लिए सरकार को पहले स्पेक्ट्रम अलोट करने होंगे। इसमे जियो का कहना है कि सरकार द्वारा स्पेक्ट्रम अलोट करने के बाद हम तुरंत 5G तकनीक को लॉन्च कर देंगे। जिओ पहले से ही 5G की दिशा में कार्य कर रहा है। जिओ ने अक्टूबर में बताया था कि जिओ US बेस्ड qualcomm के साथ मिलकर 5G तकनीक पर कार्य कर रहा है। वैसे अभी इस बात का खुलासा नहीं हुआ है कि रिलायंस ने 5G से संबंधित उपकरणों को कैसे विकसित किया है क्यों की टेलीकॉम में प्रयुक्त होने वाले 90 प्रतिशत से ज्यादा उपकरण विदेशों से आयात किए जाते हैं।

क्या इस साल के अन्त में 5G टेक्नॉलजी भारत में लॉन्च हो पाएगी ?

बहरहाल इस बारे में कुछ कहना संभव नहीं है। फिच रेटिंग (fitch ratings) की रिपोर्ट के अनुसार सरकार को 4G ऑक्शन पर ध्यान देने की आवश्यकता है। 800 से 900 मेगाहर्ट्ज के स्पेक्ट्रम सेल किया जाए। तब तक सरकार 5G स्पेक्ट्रम को सेल नहीं करेगी तब तक 5G तकनीक भारत में नहीं आ पाएगी साथ ही स्पेक्ट्रम कोस्ट अधिक होने के करण टेलीकॉम कंपनियों को नुकसान उठाना पड़ रहा है।

Leave a Reply

Back to top button